16 सितंबर 2011

एक दिन बंदूकों से पानी जरूर निकलेगा.

चन्द्रिका
शायद वहां मान्यताएं इतिहास से भी ज्यादा मजबूत हैं, वे ऐसी मान्यताएं हैं जिसने जीने और लड़ने की ललक पैदा की थी. ये सहज जिन्दगियों के लिए आसान रास्ते थे जिस पर चलकर वे एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में उतर रहे थे. ऐसे अतीत में बीता हुआ इतिहास उनके लिए एक किस्सा है जिसे वे रोज दुहराते हैं और हर दुहराव के साथ यह थोड़ा बदल जाता है और हर बदलाव के साथ एक इतिहास टूट जाता है. आखिर इतिहास को दिनों और तारीखों में सजोने से क्या फ़ायदा. विस्मृतियां कई बार मनुष्य को मजबूत बनाती हैं जबकि स्मृतियां एक घायल इतिहास को लगातार ढोती रहती हैं. वे हर वक्त जिंदगी को कुरेदती है और कुढ़न पैदा करती हैं, कोई सीख देने के बजाय वे आतंकित करती हैं और एक डरावने स्वप्न की तरह गहरी नीदों में उतर आती हैं. विद्रोहों की कहानियों में जश्न और हताशा दोनों होती है पर विद्रोहों का रुख ही जश्न और हताशा में किसी एक के चेहरे को उभार देता है. रात दुहराती है अंधेरे को और अंधेरा पुत जाता है समय की पीठ पर, ठीक उसी अंधेरे के साथ नही बल्कि रात जाने कहां से हर रोज नया और इतना ढेर सारा अंधेरा लाती है. यहां घटनाएं एक कटे हुए पेड़ सरीखी हैं जिसमे से कई कोपलें निकल आई हैं ठीक पेड़ सरीखी पर जाने कितनी जिनकी पत्तियां, तने और आकार मिलते-जुलते लगते हैं. किसी एक घटना की कई-कई गाथाएं हैं हर बदली हुई आवाज एक नई गाथा पेश करती है. आसमान का रंग नीला है इसके अपने वैग्यानिक कारण हो सकते हैं पर यहां के लोगों के लिए इससे भी ज्यादा मौजू कारण यह हो सकता है कि ढेर सारे नील गायों ने आसमान पर अपनी पीठ रगड़ी है. ऐसे में विग्यान औंधे मुंह गिर पड़ता है. दण्डकारण्य के आदिवासियों के पास जंगल की कोई पुरानी आग है जिसकी रोशनी में वे एक नया स्वप्न देख रहे हैं. पर आंच है, आग है जिसमे वे झुलस भी रहे हैं.

सोड़ी दीपक का नाम कुछ और भी हो सकता है उन्हे अपनी उम्र तक का पता नही वे अपने उम्र का मापन आपकी आंखों पर छोड़ देते हैं. जिंदगी जीने का उम्र से कोई वास्ता हो सकता है क्या? शायद इसकी उन्हें जरूरत ही नहीं महसूस होती. क्योंकि वहां मौत उम्र और गुनाह पूंछ कर नहीं आती. अपनी जमीन पर जिंदा रहना ही उनका गुनाह हो सकता है, उनका गुनाह हो सकता है माओवादियों के सहयोग से बने तालाबों में मछली पकड़ना, उनका गुनाह हो सकता है कि अपने गांव मसले को फैसले में बदलना जो सब मिलजुल कर आपस में निबटा लेते हैं और वहां गुनाहों की लम्बी फेहरिस्त है, जहां आदिवासियों ने सरकार से अब उम्मीदें छोड़ दी हैं. सरकार से उम्मीदों के प्रबल दावेदार वे हैं जो इनकी जमीनों पर अपनी मशीने खड़ा करना चाहते हैं, जिनके लिए देश एक कच्चा माल है और देश का हर नागरिक संसाधन. शायद इस कच्चे माल को उन्हें खोदना है, पकाना है और राख की शक्ल में उसे फेंक देना है. लाल किले से १५ अगस्त को हर बार दुहराया जाने वाला प्रगति और विकास का कोई संदेस इन आदिवासियों के लिए नहीं होता. वे प्रधानमंत्री की जुबान में बस एक भयानक खतरे की तरह आते हैं और..... और एक दिन किसी नाले के किनारे उनकी लाश मिल सकती है या संभव है लाश भी न मिले. जिंदा पकड़े जाने पर वे उन छत्तीस वारदातों के दोषी हो सकते हैं जिन इलाकों को उन्होंने देखा तक नहीं. वे कई अनाम नामों के साथ महान गुनाहों की श्रेणी में शामिल हैं. यह नवम्बर २०१० के किसी घटना की स्मृति है जिसे सोडी दीपक साझा कर रहे हैं. इससे पहले की ढेर सारी स्मृतियां धुंधली पड़ चुकी हैं या शायद वे उसमे लौटना नहीं चाहते.

इस गांव की सबसे बुजुर्ग महिला बंजामी बुधरी के आंखों की रोशनी जा चुकी है, इसमे ७० साल का इतिहास था जिसे किसी कागज पर नहीं उतारा जा सका, जो अब बस जेहन में बचा है. उनके पास जंगलों में पूरे के पूरे गांव के टहलने के कई किस्से हैं. इसे पलायन नही कहा जा सकता, इन जंगलों में बसने वाले गांवों की जनसंख्या जब बढ़ जाती थी तो उनमे से कुछ घर उठकर थोड़ी दूर जाकर बस जाते थे. बंजामी ४० साल पहले गदरा, सुकमा के नजदीक किसी जगह से आकर आखिरी बार इस गांव में बसी थी और तब से यहां रह रही हैं. अब वे यहां से नहीं जाना चाहती, दो साल पहले उनका पोते की पुलिस ने हत्या कर दी है. वे बताती हैं कि वह तो बस पार्टी (माओवादी) वालों के साथ रहता था और सलवा-जुडुम के खिलाफ था.
दण्डकारण्य का एक बड़ा हिस्सा आज माओवादी आंदोलन के प्रभाव में है और राज्य का एक बड़ा तंत्र इसके चिंता के प्रभाव में. यहां माओवादी होना उतना ही सहज है जितना जंगल में पेड़ होना. सबके सब आदिवासी और सबके सब माओवादी. ये गांव मुरिया और कोया समुदाय का है जिसमे माओवादियों द्वारा नियुक्त एक अध्यापक तेलगू और हिन्दी दोनो जानता है. यहां कोई नहीं जानता कि वह कितना खतरनाक है, यह बात सिर्फ देश के प्रधान मंत्री को पता है जिसे वे बार-बार दुहराते रहते है.
इन सब बातों से अलग एक इतिहास है जो मिथक के साथ लगातार प्रभावी बना रहा है. पूर्ववर्ती विद्रोहों को इन मिथकों ने संबल दिया था. आदिवासियों का एक राजा जो कभी नहीं मारा गया.....विद्रोह का एक नायक जिसके शरीर पर आते ही बंदूक की गोलियां पानी में बदल जाती थी......आम की टहनियां जो गांवों में पहुंचते ही लड़ाई का आगाज कराती थी. ये अब मौखिक कहानी बन गये हैं, इससे अलग जिंदगी एकदम उलट गयी है. जबकि उनके गांव खाली कराये जा रहे हैं, उन्हें कैम्पों में ढकेला जा रहा है, उनके शिकार के लिए ग्रीन हंट चलाया जा रहा है और बंदूक की नालें उन पर तान दी गयी हैं. वे बंदूकें छीनकर उनकी नालें मोड़ना सीख चुके हैं. अब तक इन आदिवासियों को भारतीय राज्य सत्ता ने हमेशा एक ऐसे तत्व के रूप में देखा जो कभी किसी सत्ता के खांचे में फिट नहीं हो पाए. यह एक देशज असमानता का परिणाम था जहां हमेशा से इन पर साशन करने के ही बारे में सोचा गया और ये स्वसाशन के बारे मे सोचते रहे. विकास नाम की कोई चीज है जो इन तक कभी नहीं पहुंच पाई और जब भी वह इन तक आई इनके कई सारे विनाश को एक साथ लेकर. जिसमे उस संस्कृति का विनास, उस सामूहिकता का विनाश और उस जंगल का विनाश समाहित था, जहां वे अब तक जीते आ रहे थे. १९१० के भूमकाल और उसके पूर्व में हुए विद्रोहों ने हमेशा एक बाहरी व्यवस्था को थोपने की अस्वीकार्यता को प्रकट किया है. जब अंग्रेजों के खिलाफ जंग छिड़ी तो आदिवासी यह सोच कर गोलियां खाते रहे कि उनका नायक गुंडाधुर कभी नहीं मारा जाएगा और गोलियां पानी में बदल जाएंगी, पर गोलियां पानी में नहीं बदली. वे चली और कुछ चीखें उठी, कुछ उनके बीच से हमेशा के लिए जाने कहां चले गए और फिर कभी लौटे. भारतीय सत्ता से पहली बार ६० के दशक में शुरु हुए राजा भंजदेव के नेतृत्व में भी यही मान्यता रही कि राजा को मारा नहीं जा सकता और पुलिस की गोली पानी में बदल जाएगी. भंजदेव की हत्या के बाद उन्हें कई वर्षों तक यह यकीन नहीं हुआ कि वह मारा जा चुका है और उसके तकरीबन १६ अवतार हुए जो यह दावा करते रहे कि वे राजा भंजदेव हैं. अब जबकि ८० के दशक में माओवादियों ने यहां प्रवेश किया और धीरे-धीरे वे इनमे घुले मिले उन्होने आदिवासियों के सहयोग से उनका जो विकास किया, उन्हें जिस तरह की व्यवस्था मुहैया कराई शायद वह उनके समाज के अनुरूप थी, वे इसे अपने समाज की व्यवस्था के रूप में स्वीकार्य कर चुके हैं. वर्तमान में दण्डकारन्य इलाके में माओवादियों ने जो बड़ा फर्क लाया है वह यह है कि उन्होंने अधिकांस स्थानीय व्यवस्था को वहां की स्थानीय लोगों के साथ जोड़ दिया है और वे माओवादी पार्टी के और वहां की जनताना-सरकार के तमाम पदों पर स्थित हो गए हैं...........जारी

8 टिप्‍पणियां:

  1. [url=http://biar.in/w]penisadvantage review[/url]
    vz4jy2dxkhpbkwll9px4

    उत्तर देंहटाएं
  2. [url=http://www.planetaweb.com.ua]Графика и дизайн. Клипарты, шаблоны, АЕ проекты, софт, ключи к Касперскому и Nod32 и др.

    उत्तर देंहटाएं
  3. I really like the road you are posting!

    you have an provocative point of view!

    http://www.cameredesupraveghere.eu/
    http://www.cameredesupraveghere.net/
    http://www.icansee.ro/
    [url=http://www.cameredesupraveghere.eu/camere-de-supraveghere.html ]Camere de supraveghere [/url]
    [url=http://www.cameredesupraveghere.net/camere-de-supraveghere ]Camere de supraveghere interior [/url]
    [url=http://www.icansee.ro/ ]Camere de supraveghere exterior [/url]
    http://www.cameredesupravegherevideo.com/
    http://www.supravegherevideocamere.ro/
    [url=http://www.supraveghere-video.net/ ]Camere de supraveghere exterior [/url]
    http://www.supraveghere-video.net/
    Supraveghere video pe internet

    उत्तर देंहटाएं
  4. The company was founded in 1971 by Roger Saul and his mother Joaniain 1973 they opened a factory in Chilcompton, Somerset, England. [url=http://www.alltopmulberry.com]Mulberry Handbags[/url] established itself as a British lifestyle brand, noted for its leather poacher bags including the binocular bag and dispatch bag. Mulberry's range now includes womenswear, menswear, and most recently, footwear for women. [url=http://www.alltopmulberry.com]Replica Mulberry Handbags[/url] Group plc is listed on the London Stock Exchange as MUL, and shareholders with 500 or more shares are entitled to a 20% discount at Mulberry's shops.Gefghu1459write.

    उत्तर देंहटाएं
  5. Best antique shops company [url=http://worthrepeatingsc.com]antique shops [/url]
    Worthrepeatingsc, always updated stock

    उत्तर देंहटाएं
  6. We specialize in home locks smith [b][url=http://Locksmith-chicago-illinois.com/Kirkland]Locksmith Kirkland[/url][/b] Wheels Locksmith - When it comes to removing the lock on your car, we offer the quickest, most efficient lockout service 24 hours a day, every day of the year - all at low rates and fully insured.


    When deciding on a locksmith I wish for you to know that
    We specialize in car locks smith [b][url=http://locksmiths-houston-tx.com/Channelview]Locksmiths Channelview TX[/url][/b] Used car Locksmith - When it comes to removing the lock on a car or truck, our company offers the quickest, best lockout service 24 hours a day, every day of the year - all at low rates and fully insured.


    One of the crucial serious things about our service is
    We specialize in home locksmith [b][url=http://Locksmith-charlottenc.com/Bessemer_City]Locksmith Bessemer City[/url][/b] Used car Locksmith - When it comes to unleashing vehicle, you can expect the quickest, most dependable lockout service 24 hours a day, every day of the year - all at low rates and fully insured.

    You will find several companies to choose from yet speed and reliability is key
    Organization in home locks smith [b][url=http://locksmith-in-virginia.com/Falls_Church]Locksmiths Falls Church VA[/url][/b] Car insurance Locksmith - When it comes to removing the lock on your car, we present the quickest, most reliable lockout service 24 hours a day, every day of the year - all at low rates and fully insured.

    उत्तर देंहटाएं
  7. I in point of fact like the feeling you are posting!

    you entertain an interesting essence of view!

    http://www.cameredesupraveghere.eu/
    http://www.cameredesupraveghere.net/
    http://www.icansee.ro/
    [url=http://www.cameredesupraveghere.eu/camere-de-supraveghere.html ]Camere de supraveghere [/url]
    [url=http://www.cameredesupraveghere.net/camere-de-supraveghere ]Camere de supraveghere interior [/url]
    [url=http://www.icansee.ro/ ]Camere de supraveghere exterior [/url]
    http://www.cameredesupravegherevideo.com/
    http://www.supravegherevideocamere.ro/
    [url=http://www.supraveghere-video.net/ ]Camere de supraveghere exterior [/url]
    http://www.supraveghere-video.net/
    Supraveghere video pe internet

    उत्तर देंहटाएं
  8. Damaged and plain plaits can be caused by wide choice of factors - it is inveterately straight membership fee to harmful chemicals that you have been using, significance, overdone quicken or it may also be apt to the weather or maybe your race. No implication the reason, dryness can fix the hair be conscious of and on more delicate, so that it is a gobs c many more of a mind over the extent of dandruff, itching, breakage and tresses loss. Restoring your hair's breadth's term can be easily done, providing you pick a trained fraction anguish products, tweaking a scintillating, healthier hair's breadth can be accomplished practicable dialect right quickly.While using the distinctive hairdressing products sold online, how's it thinkable to be customary the right shampoo and consequence for bare hair? A add up of you may partake of unchanging acclimated to some, but not any of those gave the impression to work. The search and also the elongated wait has finished - I'm intending to present a trendy hairdressing by-product which enables you to see operational and guaranteed results! Prosaic hair is inseparable of the most irritating conditions that everybody must gain possession of be concerned of, and Support is completely a specific of the greatest items which you choose see there.What on soil is Raise in addition and ways in which when one pleases it improve those that from out hair? Kick contains significantly moisturizing content in comparison to the ones which you oblige been purchasing on the tranquillizer store and in the groceries. As the faculty is generally formulated fitting for wearisome and damaged mane, you will probably procure an enhancement from it. Moisture is amongst the average explanations why plaits looks shoddy, biting, damaged and fragile, and Boost is barely equal of the people items which typically bid the moisture that other products inclination not contain.Because it is formulated while using solution, you don't have to nudge yon getting the locks damaged on one occasion more! It is surely stiff on ringlets be captured as personally as other ringlets problems, but it remains gentle as a remedy for your hair. Absolutely should be deed data, it could in any way without even trying examine split ends, after the first facetious perform one's ablutions! Split ends, the approachable of fine kettle of fish gone through women, and myriad people comprise the banal thought that this at best standard operating procedure to reject it can be to limit the hair short. This doesn't should outcome in this spirit, most significantly with Increase products and conditioner.If you are one of those individuals who accept been irritated of using reasonable back every free yield which is going on the hawk, Boost hand down be the last work that you'll test, that is certainly beyond doubt. With proven results, and enormous reviews from life customers, this can be rather essentially the most anticipated as well as best shampoo after dreary and damaged hair. Wholly because of its gaining fame, it can be easily at hand to buy during the internet - and may be shipped irrespective of your country.
    [URL=http://tresemmedryshampoos.info/tresemme-dry-shampoo-tutorial.php]Tresemme Dry Shampoo Tutorial[/URL]

    उत्तर देंहटाएं